अपने चिट्ठे के लिये लिप्यांतर कोड आसानी से बनायें

आपने कई चिटठों पर लिपि बदल कर पढ़ने के लिंक देखे होंगे। लिप्यांतर की यह सुविधा भोमियो द्वारा दी गयी है। यह कोड कैसे बनता है इसके बारे में आप भोमियो की यह पोस्ट पढ़ें।

हिंदी टूलबार पिटारा से आप यह कोड बहुत ही आसानी से बना सकते हैं।

अपने चिट्ठे के मुख्य पृष्ठ पर जायें। पिटारा टूलबार के टूल मीनू पर क्लिक करें। इसके बाद ’लिपि बदल कर पढ़े’ पर जायें और वांछित लिपि पर क्लिक करें। आपका चिट्ठा उस लिपि में बदल जायेगा। अब अपने ब्राउजर से URL  को कापी कर लें। यह आपके चिट्ठे का उस लिपि के लिये लिंक होगा।

आगे की प्रक्रिया एक उदाहरण से समझते हैं।

यह रहा पिटारा के रोमन चिट्ठे का URL

http://bhomiyo.com/en.xliterate/hinditoolbar.wordpress.com/

अब रोमन लिंक बनाने के लिये निम्न कोड में अपने URL को भरें

<a href=”यहां अपने चिट्ठे का रोमन URL भरें”>रोमन</a>

इसी प्रकार बाकी लिपियों का भी लिंक बनायें और उसे अपने चिट्ठे पर सहेज दें।

न कोई कोड चाहिये न स्क्रिप्ट, टूलबार पर क्लिक करें और लिपि बदल जायेगी

क्या आप पंजाबी, गुजराती, उर्दू, तेलुगू, उड़िया, तमिल, मलयालम या कन्नड़ समझते हैं पर पढ़ नहीं सकते?क्या आप इन भाषाओं के चिट्ठे पढ़ना चाहते हैं पर क्या करें चिट्ठाकार के भोमियो कोड ही नहीं लगा रखा?

आप अपने चिट्ठे को दूसरी लिपियों में पाठकों को पढ़वाना चाहते हैं पर जानते नहीं कि भोमियो कोड कैसे बनायें या लगायें?

क्या आप देखना और पढ़ना चाहते हैं कि उर्दू या अन्य भाषाओं के चिट्ठों, समाचार पोर्टल्स और साईट्स पर क्या क्या क्या लिखा जा रहा है?

यह सब तथा और भी बहुत कुछ अब संभव होगा हिंदी टूलबार पिटारा पर लगे भोमियो के लिप्यांतर बटन से, जिससे आप किसी भी साईट की लिपि बदल कर पढ़ सकेंगे। टूलबार के टूल मिनू में ’लिपि बदल कर पढ़ें’ ऑप्शन पर क्लिक करके आप जिस पृष्ठ पर होंगे उसी पृष्ठ की लिपि बदल सकेंगे, बस एक क्लिक से। इस तरीके से आप अपने चिट्ठे के लिये भी भोमियो कोड बना सकते हैं।

अपने चिट्ठे पर जायें और टूलबार पर लिप्यांतर के सभी ऑप्शन्स पर क्लिक करें। ब्राउजर में जो भी URL खुलेगा, वह उस लिपि के लिये आपके चिट्ठे का लिंक होगा।

तो है ना यह सब बहुत आसान?

टूलबार के मिनू में भी कई परिवर्तन किये गये हैं उसके बारे में अगले पोस्ट में।

लिप्यांतर के क्या क्या फायदे हैं उनके बारे में यहां भी पढ़ें

किसी भी साईट का लिप्यांतर होगा एक क्लिक से

आप को पाठक और डॉलर दोनो मिल सकते हैं इससे

ट्रांसलिट्रेशन का प्रतिच्छेदन….

गुयाना में हिन्दी है पर देवनागरी गुम

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.